चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ का कहर! पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 15 से ज्यादा लोगों की गई जान।

कोरोना महामारी का प्रकोप चल ही रहा हैं और अब चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ ने क़हर बरपाया हैं, बुधवार को ए इस चक्रवात की वजह से 15 से ज्यादा लोगो के मरे जाने की पुष्टि हुयी हैं। पश्चिम बंगाल मैं 12 और ओडिशा मैं 3 लोगो के मरे जाने की खबर हैं. मौसम विभाग की और से जानकारी दी गई थी ये चक्रवात सुपर सायक्लोन बन जायेगा।

supercy clone kolkata

सोर्स : गूगल

बुधवार को दोपहर ढाई बजे के बीच ये चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हातिया द्वीप के बीच तट से टकराया था. इस दौरान ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में 190 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से हवाएं चल रही थी. हवा की रफ़्तार अब थम गई है और तूफ़ान बांग्लादेश की तरफ़ बढ़ गया है.

पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जानकारी देते हुए कहा कि, चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ की वजह से तक़रीबन 12 लोगों की मौत हो गई है. बुधवार को इस तूफ़ान ने बंगाल में भारी तबाही मचाई. इस दौरान हज़ारों घर तहस-नहस हो गए, जबकि हज़ार से अधिक पेड़ उखड़ गए. कई बड़ी इमारतों को भी नुक़सान पहुंचा है.आगे उन्होंने बताया की, ऐसा तूफ़ान 283 साल पहले 1737 में आया था. इस तूफ़ान का प्रभाव कोरोना वायरस से भी बदतर है. इस तूफ़ान ने 2 ज़िलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया. इसका सबसे ज़्यादा क़हर उत्तर 24 परगना, दक्षिणी 24 परगना, मिदनापुर और कोलकाता में देखने को मिला.

supercy cloneसोर्स : गूगल

जानकारी दें कि चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ ने बंगाल के तटीय इलाकों में भारी तबाही मचाई है. कोलकाता और उसके आसपास के इलाक़ों में हवा की रफ़्तार 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रही. भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक़, मध्य कोलकाता के अलीपुर में सुबह 8 बजे से रात 8.30 बजे के बीच 222 मिलीमीटर बारिश हुई तो वहीं दमदम इलाक़े में 194 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी. जबकि उत्तरी 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर ज़िलों में 160-180 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से हवाएं चल रही थीं.

supercy clone

सोर्स : गूगल

चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ की वजह से ओडिशा के पुरी, ख़ुर्दा, जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रपाड़ा, जाजपुर, गंजम, भद्रक और बालासोर ज़िलों के कई इलाक़ों में तेज़ बारिश हो रही है. इसके साथ ही असम और मेघालय में भी बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *