हमारे देश मैं एक निर्दोष आवारा पशु को मारने का जुर्माना सिर्फ 50 रूपए, क्या इसे बदलने की जरूरत नहीं है?

,

एक पशु प्रेमी के रूप, हर रोज पशु पर हो रहे अत्याचार के बढ़ते मामलों के बारे में पढ़ने से मेरा दिल टूट जाता है और ये साडी घटनाये मुझे अंदर तक झकझोर कर देती है। मैं अक्सर यह सोचता हूँ कि हमारे देश में पशु क्रूरता के इन बढ़ते मामलों के पीछे क्या कारण है। तब मुझे एहसास हुआ कि इसका जवाब तो मेरे सामने ही हैं।

क्या आप जानते हैं, हम एक ऐसे देश में रहते हैं, जहाँ किसी जानवर के जीवन को नुकसान पहुँचाने या उन्हें नष्ट करने की लागत हमारे सुबह के नास्ते भी से कम है? यह सिर्फ 50 रुपए है!

जी हाँ, मैं मजाक नहीं कर रहा हूँ। आधी सदी से भी अधिक समय से पशु संरक्षण कानून एक ही है और एक अपराधी जो किसी आवारा को नुकसान पहुंचाने के लिए सलाखों के पीछे है, उसे न्यूनतम जुर्माना देकर आसानी से जमानत मिल सकती है।

1960 के पशु क्रूरता निरोधक अधिनियम की धारा 11 (i) के अनुसार, किसी जानवर की जान को नुकसान पहुंचाना या लगाना दंडनीय अपराध माना जाता है, लेकिन जुर्माना केवल i 50 तक जाता है। और तो और, जानवरों को यातना देना, जहर देना या जानवरों को मारना आईपीसी की धारा 428 और धारा 429 के तहत एक संज्ञेय अपराध है, लेकिन इस सजा के लिए जुर्माना सिर्फ ₹ 10 या उससे ऊपर है। यह एक न्यूनतम राशि हैं जो एक अपराधी के हाथों में एक जानवर के जीवन का कोई मूल्य नहीं रखती है।

यह कैसी बात हैं जिसका जीवन जा रहा हैं उसके जीवन की कीमत सिर्फ रु 50, और घायल जानवरों के इलाज पर होने वाला खर्च न्यूनतम 5,000 रुपये तक जा सकता हैं फिर चाहे वह सरकारी अस्पताल ही क्यों न हो।

 

View this post on Instagram

 

50 RS FOR KILLING & 10000 RS FOR TREATMENTS. (Swipe left) From past 60 years the laws have not been upgraded, still the preparators pay a small penalty charge and they are left on bail. On the other side when you go to treat the injured animal, on the first word they will ask you deposits or provide you with the estimates of over all bills and expenses. Even Government hospitals are moreover charging the same expenses, why??? Government hospitals should be the one who should provide preliminary to surgical aids with cost effective treatment – – adding on they lack hygiene management. The management is either busy with their own life or having lunch or breakfast when there is a critical accident. If they find things not under their control without touching they will say put down the animal. A doctors aim should be to treat the animal till the last hope. Why there is so much of ignorance to implement changes in PCA Act? So many cases have happened yet the government is ignoring? Why animals don’t matter? Please amend strict laws and immediate punishments for animal cruelties in India. Please tag and share to influencers whom you feel can make a change and difference. Share in comments if even you face the same problems with government hospitals. . . . . . . #streetdog #petsarefamily #dontshopadopt #dogsworld #rescuepup #furfriends #animalwelfare #animalrights #indiedog #dogcare #streetdogs #rescuepetsofinstagram #straydog #straydogs #bekindtoanimals #loveallanimals #animalliberation #animallivesmatter #GoVegan #HumanityFirst #thedodo #animalsmatter #stopanimalabuse #streetdogofbombay #dogsofindia #saveanimals #someonenotsomething #AdoptDontShop #fortheloveofdogs #mustlovedogs

A post shared by StreetdogsofBombay (@streetdogsofbombay) on

परेशान करने वाली बात तो यह है कि सरकारी पशु चिकित्सालय घायल जानवरों के इलाज के लिए इतना अधिक शुल्क क्यों ले रहे हैं जब किसी जानवर की जान खतरे में डालने पर जुर्माना बमुश्किल रु। 50?

 

View this post on Instagram

 

24th July 2019, Worli Mumbai – #Repost @fightagainstanimalcruelties One year has past after the death of Worli Dog – Lucky. Still we haven’t heard about any news of amendment of any strict laws and immediate punishments for animal cruelties. Daily some where or the other animal cruelties keep on happening, yet no strict reforms. Definitely, Mr. Bhatia would be at relief, yes FIR is filed but do you think this weak laws and system would do some change? It was raining heavily and the poor dog thought to come in the society for shelter, Mr. Bhatia ordered the watchman to brutally hit the dog. The pain was so much that the dog died after few days of struggling survival. The outrage was so much that @TheJohnAbraham and many more celebrities participated to take actions against this crime last year and also a silent protest was arranged last year 2019. BAR group, Mumbai filed an FIR with all legal action, still… Rest is history, we will miss you Lucky and yes the strength you have given to ahead save more animals is ignited since then and we all will fight. 🙏 @narendramodi @ravishankarprasad @presidentofindia @amitshahofficial @girirajsinghbjpofficial please amend strict laws and immediate punishments for animal cruelties in India. 🙏 . . . . . . . . . . #animalcruelty #animalwelfare #animalrights #saveanimals #choosecompassion #peta #bekindtoanimals #loveallanimals #animalliberation #animallivesmatter #GoVegan #HumanityFirst #thedodo #animalsmatter #stopanimalabuse #animalprotection #streetdogsofindia #indiedog #pariahdog #indianstreetdogs #SPREADKHUSHIYA #streetdogsofbombay #animalwelfare #narendramodi #India #animalsofinstagram

A post shared by StreetdogsofBombay (@streetdogsofbombay) on

अब आप ही बताये, हमारे देश मैं जानवरों को नुकसान पहुंचाने वालो के लिए न तो पर्याप्त जुर्माना हैं और ना ही पर्याप्त सज़ा है, और वही एक घायल जानवर को बचाने के लिए एक पशु प्रेमी को जो इतनी अधिक कीमत चुकानी पड़ती है। हम 21 वीं सदी में जी रहे हैं, यह 1960 का दशक नहीं है, हमारे समाज में पशु क्रूरता के बढ़ते मामलों को देखते हुए, पशु संरक्षण कानूनों में सुधार करने के लिए उच्च समय है।

इन बेजुवान के लिए अपनी आवाज़ उठाएँ। बदलाव का हिस्सा बनें। इनका जीवन बचाने के लिए आपको पशु प्रेमी होने की जरूरत नहीं है।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *