देश के लिए शहीद हो गए 20 जांबाज़ सैनिक, बस अब पीछे रह गए हैं उनके नाम!

,
galwanghati

LAC की गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए हैं। और बोहत सारे सैनिक घायल हुए हैं जिनमें से 4 सैनिकों की हालत गंभीर बताई जा रही है। ये सभी जवान भारत के अलग-अलग राज्य के थे, जिनका आज सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

न्यूज़ एजेंसी ANI के अनुसार, भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई इस हिंसक झड़प में चीन के तकरीबन 43 सैनिक भी हताहत हुए हैं। बीती रात हिंसा वाले इलाक़े में चीनी एयर फ़ोर्स के हैलीकॉप्टर देखा गया था जो की चीनी सैनिको की बॉडी लेने आया था।

galwanghati-martyer

जैसे की भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में शहीद होने वाले 20 भारतीय सैनिकों के नाम भी सामने आ चुके हैं। शहीद होने वाले जवान बिहार, पंजाब, झारखंड, ओडिशा, तेलंगाना, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं।

शहीद होने वाले जवानों के नाम इस प्रकार से हैं-

1- कर्नल, संतोष बाबू (हैदराबाद, तेलंगाना)

2- नायब सूबेदार, नुदुराम सोरेन (मयूरभंज, ओडिशा)

3- नायब सूबेदार, मनदीप सिंह (पटियाला, पंजाब)

4- नायब सूबेदार, सतनाम सिंह (गुरदासपुर, पंजाब)

5- हवलदार, के. पलानी (मदुरै, तमिलनाडु)

6- हवलदार, सुनील कुमार (पटना, बिहार)

7- हवलदार, बिपुल रॉय (मेरठ, उत्तर प्रदेश)

8- नायक, दीपक कुमार (रेवा, मध्य प्रदेश)

9- सिपाही, राजेश ओरंग (बीरभूम, पश्चिम बंगाल)

10- सिपाही, कुंदन कुमार ओझा (साहिबगंज, झारखंड)

11- सिपाही, गणेश राम (कांकेर, छत्तीसगढ़)

12- सिपाही, चंद्रकांत प्रधान (कंधमाल, ओडिशा)

13- सिपाही, अंकुश ठाकुर (हमीरपुर, हिमाचल प्रदेश)

14- सिपाही, गुरविंदर सिंह (संगरूर, पंजाब)

15- सिपाही, गुरतेज सिंह (मनसा, पंजाब)

16- सिपाही, चन्दन कुमार (भोजपुर, बिहार)

17- सिपाही, कुंदन कुमार (सहरसा, बिहार)

18- सिपाही, अमन कुमार (समस्तीपुर, बिहार)

19- सिपाही, जय किशोर सिंह (वैशाली, बिहार)

20- सिपाही, गणेश हांसदा (ईस्ट सिंहभूम, झारखंड)

पिछले कई दशक के बाद इतने बड़े सैन्य टकराव के कारण गलवान घाटी और LAC पर पहले से जारी गतिरोध और तेज़ हो गया है। , भारत-चीन सीमा पर 53 साल से कोई फ़ायरिंग नहीं हुई थी, सिर्फ़ धक्का-मुक्की ही होती रहती है।

galwan-shaheed

बता दें कि पिछले कई दिनों से गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच उच्च स्तरीय बातचीत के बावजूद तनाव बढ़ता ही जा रहा है। उच्च स्तरीय बातचीत के बावजूद 15 जून की रात दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प हुई जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए हैं, लेकिन चीन अब भी अपने सैनिकों के मारे जाने की ख़बर पर ख़ामोश है। इन सभी सैनिको को पार्थिव शरीर उनके परिजनों को सौंप दिया गया हैं और सभी का आज अंतिम संस्कार किया गया। हमे भी अपने इन जवानो पर गर्व हैं भारतवर्ष परिजनों के साथ है।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *