Raina-Dhoni

सुरेश रैना ने बताया! क्यों ‘ धोनी और मैंने 15 अगस्त के दिन की संन्यास की घोषणा’

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त के दिन जब देश आज़ादी का जश्न मना रहा था उसी दिन शाम 7:29 बजे देश के दो धाकड़ क्रिकेटरों ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा करके अपने फ़ैंस को मायूस कर दिया था।

Ms-Dhoni

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और कई मैचों में टीम इंडिया की कप्तानी कर चुके सुरेश रैना ने एक ही दिन संन्यास की घोषणा कर अपनी दोस्ती का एक और शानदार नज़ारा पेश किया। इन दोनों की दोस्ती से क्रिकेट जगत में हर कोई वाक़िफ़ है।

स्वतंत्रता दिवस की शाम को जब धोनी और रैना ने एक साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से अचानक संन्यास की घोषणा की तो हर किसी के दिमाग़ में बस एक ही सवाल उठ रहा था कि आख़िर इन दोनों ने 15 अगस्त को ही संन्यास क्यों लिया? संन्यास के रहस्य को लेकर अब सुरेश रैना ने ख़ुद ये ख़ुलासा किया है।

suresh-raina

दैनिक जागरण से बातचीत में सुरेश रैना ने कहा,

‘धोनी की जर्सी का नंबर 7 है और मेरी जर्सी का नंबर 3, दोनों मिलाकर 73 होते हैं। शनिवार को भारत की स्वतंत्रता के 73 वर्ष पूरे हुए तो हमने तय किया कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से विदा लेने का इससे बेहतर दिन और कोई नहीं हो सकता। ‘

मुझे पता था कि माही भाई चेन्नई में संन्यास की घोषणा के लिए ही आ रहे हैं तो मैंने भी ख़ुद को पूरी तरह से तैयार कर लिया था। मैं सीएसके के चार्टर्ड प्लेन से 14 अगस्त को पीयूष चावला, दीपक चाहर और कर्ण शर्मा के साथ रांची पहुंचा। वहां से माही भाई और मोनू सिंह को साथ लेकर हम चेन्नई पहुंचे थे।

dhoni

आगे उन्होंने बताय की 15 अगस्त को हमने संन्यास की घोषणा कर तो दी। ‘फिर संन्यास के बाद हम दोनों गले मिलकर ख़ूब रोए फिर रात में जमकर पार्टी भी की। हमने अपने करियर और दोस्ती के बारे में बातें की। इस दौरान पीयूष चावला, अंबाती रायुडू, केदार जाधव और कर्ण शर्मा और मोनू सिंह भी हमारे साथ थे।’

Raina-Dhoni

33 वर्षीय सुरेश रैना ने भारत के लिए 18 टेस्ट, 226 वनडे और 78 टी-20 मैच खेले थे। रैना के पास अब भी टीम इंडिया में वापसी का मौक़ा था, लेकिन धोनी से पक्की दोस्ती के कारण उन्होंने भी संन्यास ले लिया।

 

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *